कवि की किस्मत चुदाई के बाद पलट गयी


आज का सबसे बड़ा सवाल यह है कि हम कैसे जियें ? और उससे भी बड़ी समस्या यह है कि ऐसा क्या करे जिससे जीना असं हो जाये | दोस्तों ये दो सवाल बड़े ही कठिन है क्यूंकि इनके इर्द गिर्द पूरा जीवन घूमता रहता है और इनसे आज तक कोई नहीं बाख पाया | मुझे भी लगता था कि अगर मन से हर चीज़ को करो तो राह आसान हो जाती है | पर इसके अलावा भी हमे बहुत सारी  चीजों की ज़रूरत होती ही जिससे हम सब कुछ कर सकते हैं | देखिये लेखक जो होता है वो समाज कओ आइना दिखता है पर इससे भी बड़ी विडंबना तो यह है उसका खुद कका जीवन अंधकार में होता है | एक लेखक बड़ी मेहनत करके जीवन यापन करता है पर अगर उसे उसकी कला का कद्रदान नील जाये तो उसका सारा जीवन संवर जाता है | मुझे भी ऐसी ही किसी चीज़ की तलास्श थी | घर में मेरी बीवी थी और बच्चे थे जो पढ़ते थे | हमारे घर में बहुत तंगी का आलम रहता था क्यूंकि मुझे आये दिन किसी न किसी से मुह की खानी पड़ती थी | किसी को कहानी पसंद नहीं आती थी तो कोई मिलता ही नहीं था | पर मेरी बीवी और बच्चे मेरी हिम्मत थे क्यूंकि वो हमेशा मेरी तारीफ करते और जैसे तैसे हर चीज़ में रम जाते | अगर कोई सच्चा हमसफ़र हो तो जिंदगी हसीं बन जाती है और सफ़र तो बस नाम का ही रह जाता है | मुझे करीब 5 वर्ष हो गये थे लोगों के चक्कर काटते हुए पर एक फूटी कौड़ी न मिली | पर मेरा घर चल जाता था क्यूंकि जहाँ भी कवि सम्मलेन होता था या मुशाइयरा होता था | पैसे कम मिलते थे पर घर का चूल्हा जलता था और दो शेर का खाना भी हो जाता था | एक बार की बात में आपसे साझा करना चाहता हूँ जो की मेरे साथ भिंड में हुयी थी | यह जगह मध्य परदेस में है और यहाँ ज़्यादातर लोग आपराधिक प्रवत्ति वाले ही थे | यहाँ एक बड़ा कवी सम्मलेन होने वाला था जो की ठाकुर साहब करवा रहे थे | ठाकुर साहब मतलब सरकार जी | उनकी हुकूमत चलती थी यहाँ पे | पर वो किसी के साथ गलत नहीं करते थे |

 

मुझे निमंत्रण मिला और उसमे हज़ार रुपये थे और लिखा था आपको यहाँ कविता पढने आना है | मैंने भी झट से हज़ार रुपये भाग्यवान को दिए और गज्जू मेरा बड़ा लड़का उससे कहा ए गुड्डू अम्मा का ध्यान रखना ठीक है | उसने कहा ठीक है बापू और फिर उसने मुझसे पूछा बापू एक दिन हम अच्छी जिंदगी जियेंगे न | मेरी आँखे नाम हो गयी और मैंने कहा ” डाल पे बैठी चिड़िया को अपने पंखों पर भरोसा होता है आ जाये लाख आंधी तूफ़ान पर अपने जिगर में हिम्मत भर फिर देख क्या होता है ” | वो भी हस दिया और कहा ठीक है बापु अब आप जाओ | मैंने तैयारी करली और अपना झोला उठाया और निकल पड़ा अपने सफ़र पे | बस मिली और तब किराया 30 रूपया था | मैं पहुँच गया भिंड और रात के एक बजे थे उस समय | कुछ लोगों ने मुझे घेर लिया और कहा जो भी है निकाल दे | मैंने कहा खुद ही लेलो भाई और वो लोग मेरे पास आने लगे | उन्होंने जैसे ही मेरी तलाशी ली उन्हें एक पायजामा और कुरता मिला और ५० रुपये मिले और कुछ किताबे | तो उनमे से एक ने मुझसे पूछा क्यों रे क्या करता है भिखारी | तो मैंने कहा मैं एक लेखक हूँ मित्र तो वो सब दूर हट गये और मुझे गले से लगाके कहा पगले अब रुलाएगा क्या | ये ले तेरा सामान और बोल कहाँ जाना है | देखा दोस्तों एक लेखक की मजबूरी डकैत भी समझ जाते है | पर उस वक़्त शायद उनमे से एक कुछ लेने गया था और सबसे बोला था भाई को कहीं जाने मत देना | थोड़ी देर बाद वो वापस आया और कहा भाई ये लो कुछ रोटियाँ है आप खालो भूखे होगे तो मैंने कहा नहीं मित्रों हम सब बाँट के खायेंगे | इतना सुनते ही सब रोने लगे और फिर हमने रोटी खाई और दारु का इंतज़ाम भी था | रोटी के साथ अगर देसी दारु हो तो मज़ा ही आ जाता है | हम सब नशे में थे और फिर एक ने पुछा भाई आप यहाँ किसके यहाँ आये हो तो मैंने उनको बताया ठाकुर साहब के यहाँ जाना है कवि सम्मलेन है | उन्होंने कहा भाई आप चिंता मत कर हम सुबह आपको छोड़ देंगे | और हमलोग वही बीहड़ में सो गये फिर सुबह जब आँख खुली तो मैं ठाकुर साहब की हवेली के बाहर मैदान में था |

 

मैंने मन ही मन उनको धन्यवाद दिया और सोचा काश वो लोग मेरी कविता सुनने के लिए आ जाये | तम्बू गड चुका था मंच सज चुका था और कई नामी गिरामी कवि और कवियत्री वह पे आये हुए थे | मैंने सोचा पहले नाहा लिया जाए और उसके बाद देखेंगे की क्या इंतेज़ाम है | मैंने पास के ही नल के नीचे नहाया और सोचा की नाश्ता कर लेते है | पर अगर मैं नाश्ता करता तो घर जाने के लिए पैसे नहीं बचते इसलिए भूखा ही रहा | पर एक घंटे बाद वो सारे लोग वापस आये और कहा भाई नाश्ता लाये हैं आपके लिए मैं उनको देखककर बड़ा प्रसन्न हुआ और खुदा का शुक्रिया किया | ” लाख मुसीबते दे देना ए खुदा पर मेरी फ़िक्र करने वाले यार मुझसे मत छीनना” | फिर उन्होंने कहा भाई अब आपसे रात में मिलेंगे अभी रुके तो दरोगा पकड़ लेगा | फिर मैंने अन्दर की तरफ रुख किया और जायजा लेने लगा | अन्दर जाते ही मेरा सामना हुआ भारतेंदु दुखभंजन सिंह साहब से जो हमारे समय के बहुत बड़े शायर थे | उन्होंने मुझे देखा और कहा नए लगते हो और मैंने उनका चरण स्पर्श किया और आशीर्वाद लिया | मैंने गौर नहीं किया था की एक कवियत्री जो की नयी उम्र की थीं वो मुझे देख रही थी | वो राजा महाराजा के खानदान से तालुकात रखती थीं | उनका नाम रुखसार अम्बर था और उनकी कविता में वीर और हास्य रस दोनों था | फिर मैंने सोचैनके बीच मेरा क्या काम तो मैं एक कोना पकड़ के चुपचाप खड़ा हो गया | तभी गलियारों की महफ़िल से एक आवाज़ आई और मुझे समझते देर न लगी की ये अपने राहत फरुक्काबादी हैं | उन्होंने मुझे सुना था और वो यहाँ सबके लिए आये थे | उन्होंने मेरी तरफ इशारा करते हुए कहा कि अगर व्यंग और संजीदा शायरी का नाम आएगा तो ये लड़का काफी ऊपर जाएगा | रुखसार अम्बर भी वहीँ थी और वो ये सब बहुत गौर से सुन रहीं थी | सबके जाने के बाद वो मेरे पास आई और कहा आप बड़े छुपे रुस्तम मालुम पड़ते हैं हमे अपना जलवा नहीं दिखायेंगे | तो मैंने कहा रुखसार जी अभी सुनाये देते हैं एक लतीफा आपको | उन्होंने कहा नहीं हमे आपका जलवा अकेले में देखना है | मैं समझ गया ये क्या चाहती हैं |

 

मैंने पहले तो सोचा कि अपना काम निपटा लेते हैं बाद में इसको तारका देंगे | सम्मलेन शुरू हुआ और मेरी बारी आई और जैसे ही मैंने पहला व्यंग मारा सारेकवि उठकर तालियाँ बजने लगे | दो घंटे तक मैंने अपनी प्रस्तुति दी और ठाकुर साहब ने प्रसन्न होकर मुझे एक लाख की राशि नगद दे दी | फिर रात को हमारा खाना वहीँ था पर मुझे रुखसार एक कमरे में ले गई और बिना कुछ बोले मेरे कपडे फाड़ दिए और अपने कपडे भी उतार दिए | मेरा लंड बालों से भरा था पर उसने फिर भी उसे चूसना शुरू कर दिया और इतना चूसा की लाल पड़ गया | फिर उसने अपने कपडे भी फाड़ दिए और कहा इस नाचीज़ की चूत को खा जाओ | मैंने उसकी चूत को मजबूरी में चाटा और उसके बाद जैसे ही उसने मुझे अपना माल पिलाया मुझे जोश आ गया | उसके बाद मैंने उसे बिस्तर पे पटका और कहा बस अब आपको हमारे लंड की ताकत से रूबरू करवाता हूँ | उसके बाद मैंने उसे उल्टा किया और उसकी गांड में अपना लंड डाल दिया और वो उमम्म्म्म आआआअह ऊऊओह्हह्हह करने लगी थी | बेगम जान की गांड फट चुकी थी और मैं तो पागल घोड़े की तरह्ह उसे बस चोदे जा रहा था | वो लगातार आह… ऊह्ह्ह्हह… उईई…. करती जा रही थी और मैं था की रुकने का नाम नही ले रहा था | बीच बीच में मै उसके चूतडों पर थप्पड़ भी मार दे रहा था | फिर मैंने उसकी गांड में अपना मुठ पेल दिया पर फिर भी मेरा खड़ा था | मैंने उसे घोड़ी बनाया और इस बार उसकी चूत को फाड़ दिया और हर बार की तरह मुठ उसकी चूत में | उसके बाद हम साथ में लेटे | वो मुझसे बड़ी खुश थी और उसने मुझे अपना हार और दो किलो सोना दिया | मुझे फिर से जोश आया और मैंने फिर से उसकी को चोदा | इस बार वो आअह्ह्ह्ह उम्म्म्मम्म्म्मऊऊउम्म्म्म करती रही और रात भर चुदती रही | मैं इस बार करोडपति बनके लौटा था घर और इस चीज़ को मैं कभी भूल नहीं पाउँगा |

दोस्तों अमीर तो बहुत लोग बने होंगे लेकिन मेरी तरह बनने वाले बहुत कम ही होंगे | आप लोगों को इस कवी की कहानी कैसी लगी जरुर बताइयेगा |


error:

Online porn video at mobile phone


devar se chudai ki kahaniyahindi sexi chudai storybhabhi ne chudaimaa bete ki chudai ki storigay sex kahanianange chuchepriya ki chutnange chuchesexy hindi story hindi fontbhabhi romance with devarmastani chut ki chudaibhai behan ki chudai hindi meaunty chudai story in hindisexy sex kahanifree chudai story hindidesi suhagrat mmslive sex in hindidudh wali ko chodahindi nangi chudai videomaa ke sath shadisalhaj ki chudaibhai bhauni sexhindi font chudai kahanialesbian chootchudai kahani photoashlil kahaniyadesi kahani maa ki chudaiteacher ki beti ki chudaipreeti chudai10 sal ki ladki ki chudai kahanix chudai comxxx hindi 2017choti ladki ki photoमामी के साथ सैकस सटोरीgirlfriend ki chudai ki kahanisome sexy stories in hindidesk kahanimaa ki chut maridesi sexyhandi sexy storybhai se chudihindi bf liveWww xxx new hot real rishton me desi hot baba sex chudai hindi story comsagi maa ko chodasex ka mazamaa bahan ki chudai storyhindi sex soaunty ko choda hindi storysexi ladkihostel sex storiessuhagrat ki pahli chudaispecial chudaikunwari chootdesi bhabhi and devar sexburpure video 2019 xrandi ko chodabaap beti sex story in hindimaa beta ki kahanidesi fudi fuckdoctor chudai storymaa ki chudai ki new kahanihot chudai ki storyrupali ki chutladkiyon kibhojpuri chodai kahanikahani 2012sexy hindi xxwww chudai ki kahani hindi meindian bhabhi ki chudai kahanididi ne muth maridevar and bhabi sexchut nokuwari ladki ki chudai hindi mefirst sex storiessexy stories to read in hindiantervasna hindi kahani storieschut mari kichudai ka majasexy desi sex storysex khani hindechut story hindisuhagrat ki chudai imageबगल की खुशबू चुदाईhindi hot storychudai baaprandi ki mast chudaihindi sex stories pdf free downloadsex story for bhabhilund bur ki kahani